Santosh Shail sings some old classics.. !!

Filed under: by: स्वप्न मञ्जूषा

मैंने  संतोष जी के गाये हुए कुछ हिंदी और अंग्रेजी गानों के लिए यह ब्लॉग बनाया है ...आपलोगों को पसंद आये तो बताइयेगा...
ये इस ब्लॉग की पहली प्रविष्ठी है...
धन्यवाद..



LUCILLE..

In a bar in Toledo across from the depot
On a bar stool she took off her ring
I thought I'd get closer so I walked on over
I sat down and asked her name
When the drinks finally hit her
She said I'm no quitter
but I finally quit livin on dreams
I'm hungry for laughter and here ever after
I'm after whatever the other life brings

टोलेडो (जगह का नाम ) में डिपो के सामने वाले बार में
वो स्टूल पर बैठी थी और उसने वहीँ अपनी अंगूठी उतार दी..
मैंने उसे ऐसा करते हुए देखा और सोचा थोड़ा उसके करीब आ जाऊं
मैं उठ कर उसके पास चला गया, फिर उससे उसका नाम पूछा..
हम दोनों में जाम का एक दौर चला..और जब उसे शराब थोड़ी चढ़ गयी
उसने कहा ..यूँ तो मैं हारने वालों में से नहीं हूँ, लेकिन मैं सिर्फ सपनो के साथ अब नहीं जी सकती
मैं हंसी की भूखी हूँ और आज के बाद ज़िन्दगी से जो भी मुझे मिलेगा वो मंज़ूर होगा..

In the mirror I saw him and I closely watched him
I thought how he looked out of place
He came to the woman who sat there be-side me
He had a strange look on his face
The big hands were calloused he looked like a mountain
For a minute I thought I was dead
But he started shaking his big heart was breaking
He turned to the woman and said

तभी मैंने आईने में उसे देखा और मैंने गौर किया
मैंने देखा वो उस माहौल से परे था.
वो उस औरत के पास आया जो मेरे पास बैठी थी
उसके चेहरे पर अजीब से भाव थे
उसके हाथ खुरदुरे थे और शरीर पर्वत सा विशाल था
एक पल के लिए मुझे लगा की वो मुझे मार ही डालेगा
पर वो कांपने लगा उसका दिल टूट रहा था
और उसने उस महिला से कहा

You picked a fine time to leave me Lucille
With four hungry children and a crop in the field
I've had some bad times lived through some sad times
this time your hurting won't heal
You picked a fine time to leave me Lucille.

लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना
चार भूखे बच्चों और खेत में खड़ी फसल के साथ
मैंने बुरे दिन देखे हैं, दुःख भरे दिन भी गुज़ारे हैं
लेकिन इस बार का दर्द नहीं झेला जाएगा
लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना

After he left us I ordered more whisky
I thought how she'd made him look small
From the lights of the bar room
To a rented hotel room
We walked without talking at all
She was a beauty but when she came to me
She must have thought I'd lost my mind
I could'nt hold her 'cos the words that told her
Kept coming back time after time

उसके जाने के बाद मैंने और विस्की आर्डर किया
मैंने सोचा उस महिला ने उस आदमी को कितना छोटा महसूस करा दिया
बार रूम की रौशनी से किराए के कमरे तक
हम दोनों बिना बात किये चलते गए
वो खूबसूरत थी और जब वो मेरे पास आई
तो उसने सोचा होगा की मैंने अपना होशो हवास खो दिया होगा
मैं उसे थाम न सका क्यूंकि
उस आदमी की बातें बारबार मुझे याद आतें रहीं

You picked a fine time to leave me Lucille
With four hungry children and a crop in the field
I've had some bad times lived through some sad times
this time your hurting won't heal
You picked a fine time to leave me Lucille.

लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना
चार भूखे बच्चों और खेत में खड़ी फसल के साथ
मैंने बुरे दिन देखे हैं, दुःख भरे दिन भी गुज़ारे हैं
लेकिन इस बार का दर्द नहीं झेला जाएगा
लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना

You picked a fine time to leave me Lucille
With four hungry children and a crop in the field
I've had some bad times lived through some sad times
But this time your hurting won't heal
You picked a fine time to leave me Lucille.

लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना
चार भूखे बच्चों और खेत में खड़ी फसल के साथ
मैंने बुरे दिन देखे हैं, दुःख भरे दिन भी गुज़ारे हैं
लेकिन इस बार का दर्द नहीं झेला जाएगा
लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना
You picked a fine time to leave me Lucille
लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना
You picked a fine time to leave me Lucille
लुसिल तुमने मुझे छोड़ने का अच्छा समय चुना

9 comments:

On February 24, 2010 at 6:34 PM , Udan Tashtari said...

Great voice and nicely sung...अनुवाद भी जबरदस्त है..आनन्द आ गया!

 
On February 25, 2010 at 5:08 AM , 'अदा' said...

Arvind ji Says :

Very beautifully sung ? and whose voice joined the great singer later -that is too very sweet -whole song casts a profound melancholic effect on the listener!

 
On February 25, 2010 at 6:47 AM , महफूज़ अली said...

bahut sunder...

 
On February 25, 2010 at 6:51 AM , सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

who has sang this song...
your husband??

 
On February 25, 2010 at 6:53 PM , दीपक 'मशाल' said...

Most welcome Jija ji... ur singing is simply superb...

 
On February 28, 2010 at 3:54 AM , DIVINEPREACHINGS said...

बहुत सुन्दर गीत, संगीत और गायन । जब जीवन जीने का तरीका भिन्न हो तो अवसाद भी तो उसी प्रकार के होंगे । आवाज़ की कशिश और संगीत का जादू कुछ देर के लिए तो हिला कर रख देता है । अनेक शुभाशीष.......

 
On March 2, 2010 at 2:51 AM , Manish said...

मजा आ गया, वाकई अच्छा है। गायक कौन है?

 
On March 12, 2010 at 3:06 AM , अक्षिता (पाखी) said...

बड़ा मजेदार है. इसे तो बार-बार दोहराने का मन करता है. मजा आ गया.
______________

"पाखी की दुनिया" में देखिये "आपका बचा खाना किसी बच्चे की जिंदगी है".

 
On March 23, 2010 at 1:22 AM , Anonymous said...

Thanks for info, I am always looking for something interesting on the Internet, i want to send
photos for your blog